Covid-19 Relief

Yusuf Meherally Centre, a non-profit development organization, functioning since 1962,has taken up initiatives to meet with local people for over 50 villages of Raighad districts near Mumbai.  Spreading awareness busing the myth against Covid vaccines. Our volunteers are coordinating and ferrying people to vaccine centre’s. Sending our ambulances and doctors to villages to provide treatment for those non Covid patients who cant go or are unable to get admitted to hospital’s.

We have started providing ration to families of Covid affected patients, image below on our collection and distribution go-down:

 

News coverage below:

News print media coverage:

कोरोना राहत कार्य:

उत्तराखंड में युसुफ मेहरअली सेंटर ने कोरोना रिलीफ वर्क शुरू कर दिया है। डंतपूंसं भ्मंसजी प्दपजपंजपअम की डेढ़ लाख की मदद 11 मई 2021 को वाईएमसी को मिली। जिसके बाद से 12 मई को विकासनगर से कोरोना से लड़ने में सक्षम सभी उपकरण मंगवाए गए हैं। 13 मई 2021 से राहत कार्य शुरू कर दिए गए हैं।

उत्तराखंड में कोरोना की स्थिति बेहद नाजुक है। मुंबई से डेढ़ गुना ज्यादा मामले रोज देेहरादून शहर में सामने आ रहे हैं। दूसरे नंबर पर हरिद्वार है। देश के 10 सबसे प्रभावित राज्यों में उत्तराखंड का नाम, तो देश से सबसे प्रभावित 10 दिनों में उत्तराखंड की राजधानी देहरादून शूमार है। पहाड़ के प्रत्योग गांव में कोरोना महामारी फैल चुकी है। हरेक परिवार बुखार, खांसी, जुखाम, उल्टी दस्त से त्रस्त है। जबकि गांवों में कई लोगों की मौत हो चुकी है। गंगा और यमुना समेत सहायक नदियों में शव बहने की खबरें रोज अखबारों में छप रही है। लगातार बारिश होने से शवों को जलाना मुश्किल हो रखा है।

सिर्फ वाईएमसी सेंटर कांडीखाल की बात करें, तो अब तक तीन परिवारों को कोरोना हो चुका है। एक परिवार उभर चुका है, जबकि दो परिवार अभी भी कोरोनाग्रस्त हैं और घर पर ही कोरंटाइन हैं। इसके अलावा भी दो परिवारों में एक एक लोग कोरोनाग्रस्त है। जिन्हें घर पर ही कोरंटाईन किया गया है। सरकारी सिस्टम का हाल यह है कि अब भी उक्त लोगांे को न तो डाक्टर, पुलिस, तहसील प्रशासन देखने, सुध लेने को पहुंचा, न कोई समाजसेवी। परिवार घर पर कोरंटाइन है और उनको खाने-पीने की जरूरी चीजें तक नहीं मिल पा रही हैं। खेतों में पकी उनकी फसले बबार्द हो चुकी हैं। ऐसे में, आने वाला समय भी उनके लिए चुनौति भरा होने वाला है। ये पोजिटिव रिपोर्ट वाले मामले हैं। इसके अलावा भी गांव में कई ऐसे लोग कोरोनाग्रस्त हैं, तो बीमारी को बारे में बता ही नहीं रहे हैं। मदद के नाम पर सिर्फ वाईएमसी के साथियों ने ही पीड़ितों को मदद की। कांडीखाल से सिर्फ नौ परिवार रहते हैं। उसके बावजूद कोरोना का यह हाल है। आसपास के 50 से 100 गांवों वाले परिवारों में स्थिति और भी भयावह है।

क्षेत्र के कई गांवों में 3 से 4 मौतें हो चुकी हैं। मरने वालों में ज्यादातर नौजवान हैं। अस्पताल सिर्फ देहरादून है, जहां वैसे भी कोरोना से बुरा हाल है। बैड नहीं मिल रहे। जो कोई भर्ती हुआ उसको पूछने वाला कोई नहीं था। और भूख-प्यास से ही अस्पताल में उसकी मौत हो गई। इस भय से कोई बीमारी सामने लाने को तैयार नहीं है। ऐसे हालात में युसुफ मेहरअली सेंटर ने कोरोना से राहत दिलाने के लिए कुछ भीमारीग्रस्त गांवांे में काम करने का तय किया है।

इसके लिए दो आज से एक डाक्टर श्री नीरज रावत और एक फार्मेसिस्ट को साथ लिया गया है। जबकि, वाईएमसी की ओर से जबर सिंह, राजेश कुमार, फिलिफ भाई और कुलदीप की एक टीम बनाई गई है।

सेंटर से लगे क्षेत्र के सबसे ज्यादा प्रभावित गांवों सैंजी, कांडीखाल, भटोली, चम्या, बनोगी, द्वारगढ़ और गरखेत गांवांे को पहले चरण में लिया गया है।

आज आठ बजे से सैंजी गांव से शुरूआत होगी। इसके तहत सबसे पहले गांव में मशीन के जरिए छिड़काव करेंगे। डाॅक्टर चेकअप करेंगे। किसको क्या दिक्कत है, बताएंगे। कोरोना से बचाव आदि के तरीके बताएंगे। कोरोना, बुखार, वीपी, सुगर जांच के सभी उपकरण खरीदे हैं, जिसके जरिए जांच कर मरीजों की स्थिति पता लगाई जाएगा। जरूरत पढ़ने पर पीड़ितों को मसूरी या देहरादून भेजेंगें। दवा के अलावा स्थानीय नुक्से बताएंगे। कांडीखाल में मास्क तैयार किए जा रहे हैं। जिनको धीरे धीरे गांवों में बांटेंगे। जिला व तहसील प्रशासन के साथ भी संपर्क में रहेंगे और उनको स्थिति से अवगत कराएंगे।, जो फिलवक्त भी हम कर ही रहे हैं।

कांडीखाल में वर्तमान पर डेयरी की उपरी मंजिल में 17 लेबर रह रही है। जिनके खाने, रहने का इंतजाम भी सेंटर कर रहा है।

युसुफ मेहरअलीसेंटर टीम, कांडीखाल

Report from our Kutch centre 15th May 2021:

रिपोर्ट

पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष फिर से करोना के विरुद्ध हमारी जंग जारी है /पिछले वर्ष सेंटर ने निम्नलिखित प्रोजेक्ट पर कार्य किया था –

  1. राशन किट
  2. फूड पेकटे
  3. पैसे के द्वारा लेबर लोगों को मदद
  4. सरकार को राशन किट द्वारा मदद
  5. लेबर लोगों को रेलेवे स्टेंड छोड़ने के ले ट्रसपोर्ट की  सुबिधा

 

 

इस वर्ष सेंटर के द्वारा निमलिखित कार्य चल रहा है –

1    करोना रेपिड टेस्ट  -500 किट रोटरी क्लब को दिया , आभी तक 400 से ज्यादा टेस्ट हो गया है /

2       राशन किट का वितरण –   सेंटर के द्वारा 500 राशन किट वितरण किया जा रहा है /इसके अंतर्गत माइग्रैट लेबर लोगों को निशुल्क राशन किट दिया जा रहा है /

नमक में काम करने वाले मजदूरों को अगले हफ्ते से राशन किट दिया जाएगा

फिशिंग में काम करने वाले परिवारों को भी जल्द राशन किट दिया जाएगा /

3  हेल्थ सपोर्ट –  लोगों को मदद करने के लिए जल्द ही कार्य शरू करने वाले है /जल्द ही  श्री लीलाधर               भाई से बात कर के ये काम शरू कर देंगे

सायकलोने

सायकलोन आने की बात है/ 16 से 18 तक गुजरात  आने के वजह से मुँदरा के स्कूल में एक हजार मजदूरों  के रहने तथा उनके खाने की व्ययस्था कर दिया गया  है  इसके अलावा नमक में काम करने वाले लोगों के लिए एक मदिर में सरकार के साथ मिल कर व्ययस्था कर रहे है /कल सुबह से गाड़ी के द्वारा  लोगों को सुरक्षित जगह पर  पहुचाने  का कार्य शरू कर देंगे / सभी गाड़ी में पेट्रोल फूल कर के रखा है / ड्राइवर को निर्देश दिया गया है की अगर  सायकलोने   आया उनको 24 घंटे कार्य करना होगा/ राशन वाले से भी बात कर रखे जीतने भी राशन की जरूरत होगी उतनी हमे मिल  जाएगी /

हामारे डोनेर

Aarti Foundation के तरफ़  से 5 लाख आ  गाया है जिसका 500 राशन किट बना कर वितरण का कार्य शरू कर दिया है /

अभियान के तरफ से 300 राशन किट देने की बात है जो की 500 राशन के खतम होने के बाद शरू करेंगे /

Hul  के तरफ 15000 हाईजिन  किट मिलने की बात है / इसके अलावा 2 लाख खादी का मास्क बनाने की बात चल रही है साथ ही 5000 कॉटन बैग बनाने की बात है /इस काम को हमारी 100 बहनों के द्वारा किया जाएगा , उनसे बात हो गई है अगर ऑर्डर मिल गया  तो एक महीने में काम पूरा हो जाएगा /

इस वर्ष एक एम्बुलेंस सर्विस शरू करने की योजना है इसके मदद से  लोगों को अस्पताल समय पर पहुचा सकते है /

कच्छ के लिए किसी भी मदद की जरूरत फ़िलहाल नहीं ,हमे दूसरे बाँच की मदद करने की जरूरत है /

 

Yusuf Meherally Centre started the ‘Food for the Marginalized’ program on March 25th. We joined the efforts of individual initiatives which had started in 3 cities of Greater Mumbai region – Mumbai, Navi-Mumbai and Panvel. (Mankhurd, Govandi, King circle, Mahim,Dadar, Worli, Dharavi, Andheri east and west, Kandiveli, Dahisar, Kolva in Thane, Bhiwani, Kalyan, Dombivali, Panvel, Belapur, Nerul, Chembur and Bandra East & West). We decidedto move beyond Mumbai city. We tried our best and expanded our reach to help families of daily wagers, homeless, construction workers, poor living in slums, widows, transgender and the tribes in the nearby district of Mumbai. We have reached out to 3600 family across the Mumbai, Navi-Mumbai and Panvel.

The daily wage workers from the unorganized sector (construction work, street vendors, small shop workers and porters) single women, children are the ones who need help right now, tosurvive this catastrophe. They are the ones who have exhausted their money in hand, andunable to procure food and other essentials.

Yusuf Meherally Centre brought to the attention of the District Collector of Raigad the problems faced by some of the adivasi villagers who have not yet obtained a ration card for themselves. The DM has given instruction to the Tahasildar and the District Civil Supplies Officer to immediately complete the formalities to provide ration card to these people so that they get the benefits in this time of lock down. We have provided ration kit to most venerable 1600 tribal family in 20 different village of Raigad district with the help of different organisations.

We have also recognized the need to support the marginalized communities in two districts of Maharashtra in Raigad and Ratnagiri for 20 villages. In Raigad district specifically, in the vicinity of Tara village where YMC rural centre and a hospital is located, we are providing free health services to this population mostly the daily-wage labourers who are in need of this service. We have provided 500 masks to needy persons. We are also initiating the same from the hospitalbased in Anjanwel near Chiplun. Our Doctor and volunteers are taking care of 397 fisherman family covering three village of nearby Chiplun center. We are providing them free medical checkup and medicine. We are already in touch with ZP-DHO in Ratnagiri, to make the space available as quarantine ward to accommodate 25-30 people if and when required.

Jammu, we have distributed 7000 khadi masks to diverse front-line workers in hospital, police and banking staff. We have provided cocked food to 8650 person who is stuck at different place of Jammu district. We have provided the food grains kit to 256 migrants labours family. Our devotion and dedication towards village industry and generate local economy has been our operational credo across India. Because of which we have got order for 10 lac Khadi masks. The different dept and district administration of Jammu and Kashmir approached our Jammu unit to facilitate for the same. We had already given the 20000 masks to district administration. Now we are working to prepare the 10 lac mask. The state govt. is helping us to collect the cloth from different state to meet out the requirement.

Kutch, Gujarat we have distributed approximately 10,000 face masks to hospitals and other departments providing crucial services. We are ready to produce more mask (approx. 20000 per day) as per requirement received from different dept and organisation. In this region, we have reached out to 560 migrants slat labours family. We have received the support from our supporting organisation to reach out 800 family in Bachow block.

We are preparing the food grains kit for them and trying to reach there as soon as possible. We are also coordinating with district administration to provide ration card to migrants labours. Uttarakhand, Odisha, Bihar and Uttar Pradesh we are strengthening our grassroots support system to reach out to the most vulnerable groups of people in terms of food parcels and imparting basic hygienic and preventive measures. We have provided shelter to 22 migrants labour at our center in Khandikhal village in Uttrakhand. We have provided cocked food to 456 persons for a day at Sonebhadra in UP, to most vulnerable community. We are creating awareness at 20 village in Dhenkanal district of Odisha. We have manufactured 3000 masks and distributed among the villagers in Dhenkanal district of Odisha state. We are working with different group who are working as Corona Warrior at Bhagalpur district in Bihar state. Our volunteers have distributed 200 mask to vegetable vendors nearby our center at Bihpur in Bhaglpur district.

Kerla YMC had ensured that the members of the senior citizens self-help groups formed in Thalavady Village are provided with clean drinking water during the lock down period. Arrangements for this had been made from the RO plant set up as part of its post flood rehabilitation work in Kerala.